Kisan Samachar

गुरुवार, 26 अगस्त 2021

Why the Apple Growing Farmers of Himachal-Pradesh are Resented? Himachal_Pradesh ke Kisano ki Narazagi||

पिछले वर्ष सरकार द्वारा जारी किये कृषि कानूनों के कारण किसानो को होने वाले संभवित अन्याय के बारे में किसानो और उनके नेता राकेश टिकैत ने जो आशंका जताई थी वह सच होती दिखाई रही है। किसानो को डर है की वे अपनी उपज़ के उचित दामों के लिए बड़े उद्योगपतियों  पे आधारित हो जाएंगे, और वे किसानो का शोषण कर सकते है।

The-Apple-Farm-of-Himachal-Pradesh.
The-Apple-Farm-of-Himachal-Pradesh.
    राकेश टिकैत का दावा हिमाचल प्रदेश के किसानो के लिए सच होता दिखाई रहा है।हिमाचल प्रदेश स्थित अडानी की एग्री फ्रेश कंपनी ने #सेब के जो दर जाहिर किये है उससे किसान नाराज़ है। 


    पिछले साल की तुलना में इस बार प्रति किलो के हिसाब से 16 रुपये कम कीमत लगाईं गई है। सेब की खरीदारी 26 अगस्त से शुरू होगी। कंपनी ८० से 100 प्रतिशत रंग वाले एकदम बड़े सेब का रु. 52/- (गत वर्ष का भाव रु. 68/- ) प्रति किलो और बड़े, मध्यम तथा छोटे सेब के  रु. 72/- (गत वर्ष का भाव रु. 88/- ) प्रति किलो का भाव देगी। 60 से 80 फीसदी रंग वाला एकदम बड़े सेब की रु. 37/-  प्रति किलो तथा बड़े, मध्यम, और छोटे कद के सेब की रु. 57/- प्रति किलो का भाव डिटडिया जाएगा। 60 फीसदी से कम रंग वाले सेब की खरीद किंमत  रु. 15/-  प्रति किलो लगाईं गई है। जो  गाठ वर्ष रु. 20/- प्रति किलो के भाव से खरीदा गया था।


    

Fresh Kashmiri Apple
Royal Apple-1 KG
All Season Seeds
Apple Seeds Plant

किसानो को अपने सेब की उपज अडानी के कलेक्शन सेंटर तक पहुचानी होगी। कंपनी के यह भाव  26 से 29 अगस्त तक के लिए मान्य रहेंगे। 29 अगस्त के बाद भाव में बदलाव हो सकता है।


    अडानी एग्री फ्रेश के टर्मिनल मैनेजर पंकज मिश्रा का कहना है की मंडियों के मुकाबले अडानी के भाव ज्यादा अच्छे है। 29 अगस्त के बाद मार्केट की मांग के आधार पर भाव में बदलाव होगा।


    कृषि मामलों के तजज्ञ देवेंद्र शर्मा का अभिप्राय है की  यही कारण है की किसान #कृषि_कानूनों का विरोध कर रहे हैं। इसलिए #न्यूनतम_समर्थन_मूल्य को कानूनी अधिकार बनाए जाने की मांग की जा रही है।

Read more on: 

MG

बुधवार, 14 जुलाई 2021

Kisan ne kit nashak ke upyog kiye bagaira illiyo ke prokop se bachaai fasal||

किसान ने इल्लियों के प्रकोप से बचाई फसल बिना कीटनाशक का इस्तेमाल किए...


  1. बिना कीटनाशक का इस्तेमाल किए किसान ने इल्लियों के प्रकोप से बचाई फसल, हल्दी की खेती से किसान ने कमाया करीब 1.50 लाख का मुनाफा।

  2. लखनऊ में गन्ना आयुक्त का घेराव करेंगे मेरठ के किसान, सरदार वीएम सिंह करेंगे किसानों का नेतृत्व।.


  3. किसानों को केला व ड्रैगनफ्रूट की खेती पर मिलेगा 50 फीसद का अनुदान, ड्रीप व स्प्रिंक्लर सिंचाई करने पर भी 90 प्रतिशत का अनुदान देगी सरकार।


गुरुवार, 20 मई 2021

The latest news of fertilizers price||

yah faisale se khad ka kalabazari kam ho sakati hai, aur high quality fasal upalabdh hogi.

agriculture,telugu news,news,kisan news tv,hmtv agriculture,telangana news,ap news,agriculture equipment,agriculture technology,latest news,agriculture tv,agricultural,agricultur​e,modern agriculture,etv news live video,latest news videos,agriculture loan,agricultural drone,national news video,meherpur agricultur,japan agriculture,agriculture tools,agriculture foods,agriculture machinery,agriculture expert,swathi agriculture,agriculture budget,telangana latest news,agricultural land
fertilizer,fertlizer,organic fertilizer,3fertlizer,ffj fertlizer,bone fertlizer,fatima fertlizer,fuji fertllizer,organic fertlizer,fertlizer in maize,fertlizer pakistan,fish fertilizer,how to fertilizer,flower fertilizer,fertilizer licence,fertilizer spraying,bone meal fertilizer,how to make organic fertlizer,flowering fertilizer,organic fertilizer ffj,tree fertilizer injector,flower fertilizer organic,fertilizers shop licence,down to earth fertilizers,organic.liquid fertilizer

रविवार, 21 मार्च 2021

Kaise Plant Tissue Culture ki Modern Technology ko apanakar Bhari Munafa kamaa sakate hai? Bharatiy Kisano ke liye Golden Opportunities||

कृषि विज्ञान केंद्र से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद टिशू कल्चर को घर पर भी उगाया जा सकता है।
कृषि विज्ञान केंद्र से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद टिशू कल्चर को घर पर भी उगाया जा सकता है।

   अर्थव्यवस्था और व्यापार के ग्लोबलाइजेशन के समय मेंं, उद्योगपतियों को गुणवत्ता और बड़े पैमाने पर उत्पादन के बारे मेंं कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता हैंं।

    किसानों को भी इस स्थिति का सामना करना पड़ता हैंं। उन्हें खेती मेंं आधुनिक तकनीक को अपनाना होगा और उन्हें एक उद्यमी की तरह सोचना होगा। पारंपरिक खेती अब पर्याप्त नहीं हैं। विश्व कृषि क्षेत्र के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए एक थोक तथा उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादन अपरिहार्य हैं। 

    इस चुनौती को पूरा करने के लिए ऊतक संवर्धन तकनीक बहुत ही आशाजनक तरीका हैंं। हर किसान को इसके बारे मेंं पता होना चाहिए। इसका उत्पादन कंपनियों के पेशेवर प्रयोगशाला में और साथ ही छोटे किसानों द्वारा घर पर उत्पादन करने के लिए किया जा सकता हैं।

शनिवार, 8 जून 2019

Sikkim, The Land of Flower is also a Fully Organic State of India. सिक्किम, फूलो की भूमि भारत का पुर्ण जैविक राज्य भी है।

वैज्ञानिक प्रगति के फलस्वरूप रासायनिक खाद और किटनाशको की खोज और उसके शुरुआती अच्छे परिणाम ने किसानो को बहुत उत्साहित किया,किंतु कुछ समय के बाद उसके दुष्परिणाम भी नजर आए. अंत: किसानो ने सजीव खेती को आजमाना शुरू किया है

Sikkim the first fully organic farming state of India
Sikkim the first fully organic farming state of India

मंगलवार, 8 जनवरी 2019

Marketing Strategy of Organic Farming and Technique of Selling of Agro products for Best Prices

Nowadays people are more conscious to the health, so the organic products are getting more and more acceptance, but the products are yet not available in reasonable price. In this situation, it is difficult for the organic corps growers to have a better price of their corps.

सोमवार, 30 जुलाई 2018

Baatein Kheti Ki-Tarbuch ki Kheti se Lakho ki Kamai. Surat ke Kisan ne Kamaye Lakho.Farmer Earned Lakhs by Water Melon Farming.

#रिलायंस_फाउंडेशन की #तालीम पाकर, #सूरत (#तापी) जिला के अंदरूनी क्षेत्र #उमरपाडा गाँव के #नासीरपुर गाव के #किसान ने, कैसे #तरबूज की #खेती कमाए लाखो? #गुजरात_राज्य की #वनवासी #किसानो के #विकास के #प्रोजेक्ट्स तहत #आदिवासी विस्तारो में भी #खेती के अनेकविध प्रयोग होते है|
Keywords:tarbooj ki kheti,tarbuj ki kheti,tarbooj ki kheti kaise kare,tarbuja ki kheti,tarbuj ki kheti in hindi,tarbuj ki kheti kaise kare,tarbooj ki kheti in hindi,tarbuch ki kheti,tarbuch ki kheti gujarat,tarbuch ki kheti gujarati,tarbuj ki kheti ki jankari,tarbuje ki kheti,kheti,kaise kare tarbuj ki kheti,tarbuj ki kheti kaise karen,tadbuj ki kheti,jadui tarbooj ki kheti,tarbuj ki kheti adhunik tarike se,tarbooj ki kheti kaise karen,

रविवार, 10 जून 2018

baatein kheti ki: muskmelon /kharbuja ki kheti aur shakkar teti se kamaye 70 dino me 21 lakh

तालुका डिसा के चंदा गालिया गांव के एक किसान खेताजी सोलंकी ने भी ऐसे ही एक कृषी मेले से प्रेरित होकर और कृषि तजज्ञों से मार्गदर्शन लेकर अपनी आलू की खेती छोड़ कर खरबूजे की खेती में नसीब आजमाया, और सिर्फ 70 दिनों में ही फसल उतार कर 21 लाख रूपये कमा लिए|


मेरी ब्लॉग सूची