Saturday, June 8, 2019

Sikkim, The Land of Flower is also a Fully Organic State of India. सिक्किम, फूलो की भूमि भारत का पुर्ण जैविक राज्य भी है।

वैज्ञानिक प्रगति के फलस्वरूप रासायनिक खाद और किटनाशको की खोज और उसके शुरुआती अच्छे परिणाम ने किसानो को बहुत उत्साहित किया,किंतु कुछ समय के बाद उसके दुष्परिणाम भी नजर आए. अंत: किसानो ने सजीव खेती को आजमाना शुरू किया है

Sikkim the first fully organic farming state of India
Sikkim the first fully organic farming state of India

जैविक खेती क्या है?

         सजीव यां जैविक खेती में रसायनिक खाद और कीट्नाशको का कम से कम यां शुन्य ऊपयोग होता है सिर्फ जैविक पद्धति से बने खाद और कीट्नाशको का उपयोग किया जाता है. सन 1990 से यह दिशा में अच्छी जागृती पैदा हुइ है और सरकार भी अच्छा प्रोत्साहन दे रही है जैविक कृषि का सबसे उत्तम द्रष्टांत भारत का सिक्किम राज्य है
 
Healthy Organic Products
Healthy Organic Products

2003 में पवन चामलिंग के नेतृत्व वाली सरकार ने सिक्किम को जैविक कृषि राज्य बनाने का फैसला किया।

 
The Prime Minister, Shri Narendra Modi visiting the organic product exhibition, in Gangtok on January 19, 2016. .The Chief Minister of Sikkim, Shri Pawan Kumar Chamling is also seen..
The Prime Minister, Shri Narendra Modi visiting the organic product exhibition, in Gangtok on January 19, 2016. .The Chief Minister of Sikkim, Shri Pawan Kumar Chamling is also seen..
      लगभग 75,000 हेक्टेयर कृषि भूमि को जैविक कार्यक्रम में धीरे-धीरे जैविक प्रथाओं और सिद्धांतों को लागू करके प्रमाणित जैविक भूमि में बदल दिया गया था, जो कि जैविक उत्पादन के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम में निर्धारित दिशा-निर्देशों के अनुसार था।

       कृषि सचिव खोरलो भूटिया ने कहा कि दीर्घावधि में, जैविक खेती से कृषि, जैव-विविधता संरक्षण और पर्यावरण संरक्षण का निर्वाह होता है।

         सतत खेती से मृदा स्वास्थ्य के निर्माण में भी मदद मिलेगी, जिससे फसल का उत्पादन निरंतर बढ़ेगा

सिक्किम भारत का पहला पूर्ण रूप से जैविक राज्य

 
Sikkim area map
Sikkim area map

लगभग छह लाख की आबादी के साथ, राज्य को फूलों की भूमि के रूप में भी जाना जाता है जो अब अपनी जैविक पहल के लिए भी जाना जाएगा।









                                                      मेरे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद!

MG

Tuesday, May 28, 2019

किराए पर लगाए हज़ारों कमाएं Rice Planting seedling low investment high ...

किसानो के लिए बहुत ही उपयोगी मशीन

      
          आज जब लोग रोजगार की खोज में शहर की और भाग रहे है तब इस के कारन खेतो में आय दिनो मजदुरो की कमी उत्पन्न हो जाती है मुंहमांगे पैसे देने पर भी कभी कभी मजदुर मिलते नही है, और किसान बेचारा खड़ी फसल को काटने यां बीज बोने जैसे काम; जो सही वक्त पर किए जाने चाहिए, तब मजदुर न मिलने के कारन लाचार हो जाते है वैसे मे यह मशीन बहूत ही उपयोगी का साबित हो सकता है


 kisaano ke lie bahut hee upayogee masheen 


          aaj jab log rojagaar kee khoj mein shahar kee aur bhaag rahe hai tab is ke kaaran kheto mein aay dino majaduro kee kamee utpann ho jaatee hai] munhamaange paise dene par bhee kabhee kabhee majadur milate nahee hai aur kisaan bechaara khadee phasal ko kaatane yaan beej bone jaise kaam, jo sahee vakt par kie jaane chaahie, tab majadur na milane ke kaaran laachaar ho jaate hai. vaise me yah masheen bahoot hee upayogee ka saabit ho sakata hai.

Monday, March 11, 2019

Tuesday, January 8, 2019

Marketing Strategy of Organic Farming and Technique of Selling of Agro products for Best Prices

Nowadays people are more conscious to the health, so the organic products are getting more and more acceptance, but the products are yet not available in reasonable price. In this situation, it is difficult for the organic corps growers to have a better price of their corps.

       Here is the video which may guide to how to sell the organic products at a better price.

 


  आजकल लोग स्वास्थ्य के प्रति अधिक जागरूक हैं, इसलिए जैविक उत्पादों को अधिक से अधिक स्वीकृति मिल रही है, लेकिन उत्पाद अभी तक उचित मूल्य में उपलब्ध नहीं हैं। इस स्थिति में, जैविक कोर उत्पादकों के लिए अपनी वाहिनी की बेहतर कीमत प्राप्त करना मुश्किल है। यहां वह वीडियो है जो जैविक उत्पादों को बेहतर कीमत पर बेचने के लिए मार्गदर्शन कर सकता है।

ਅੱਜ-ਕੱਲ੍ਹ ਲੋਕ ਸਿਹਤ ਤੋਂ ਜ਼ਿਆਦਾ ਚੇਤੰਨ ਹੁੰਦੇ ਹਨ, ਇਸ ਲਈ ਜੈਵਿਕ ਉਤਪਾਦਾਂ ਨੂੰ ਵਧੇਰੇ ਅਤੇ ਜਿਆਦਾ ਪ੍ਰਵਾਨਗੀ ਮਿਲ ਰਹੀ ਹੈ, ਪਰ ਉਤਪਾਦ ਅਜੇ ਵੀ ਵਾਜਬ ਕੀਮਤ ਤੇ ਉਪਲਬਧ ਨਹੀਂ ਹਨ. ਇਸ ਸਥਿਤੀ ਵਿੱਚ, ਇਸ ਲਈ ਔਸ਼ਧ ਔਸ਼ਧ ਜਾਪਦਾ ਹੈ ਕਿ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੇ ਕੋਰ ਦੀ ਬਿਹਤਰ ਕੀਮਤ ਹੈ. ਇੱਥੇ ਇੱਕ ਵਿਡਿਓ ਹੈ ਜਿਸ ਨਾਲ ਇਹ ਪਤਾ ਲੱਗ ਸਕਦਾ ਹੈ ਕਿ ਜੈਵਿਕ ਉਤਪਾਦਾਂ ਨੂੰ ਬਿਹਤਰ ਕੀਮਤ ਤੇ ਕਿਵੇਂ ਵੇਚਣਾ ਹੈ.

இப்போதெல்லாம் மக்கள் ஆரோக்கியத்துடன் மிகவும் உணர்ச்சிவசப்பட்டனர், எனவே கரிம பொருட்கள் இன்னும் அதிகமான வரவேற்பைப் பெறுகின்றன, ஆனால் தயாரிப்புகளும் நியாயமான விலையில் இன்னும் கிடைக்கவில்லை. இந்த சூழ்நிலையில், கரிமப் பயிர்கள் விவசாயிகள் தங்களது படைப்பிரிவுகளின் சிறந்த விலையை பெற கடினமாக உள்ளது. ஒரு நல்ல விலையில் கரிம பொருட்கள் விற்க எப்படி வழிகாட்டும் வீடியோ இங்கே.

ఈ రోజుల్లో ప్రజలు ఆరోగ్యానికి మరింత అవగాహన కలిగి ఉంటారు, అందువల్ల సేంద్రీయ ఉత్పత్తులను మరింత ఆమోదయోగ్యంగా పొందుతున్నాయి, కాని ఉత్పత్తులను ఇంకా ధరలో అందుబాటులో లేవు. ఈ పరిస్థితిలో, సేంద్రీయ కార్ప్ రైతులు వారి కార్ప్స్ మెరుగైన ధరను కలిగి ఉండటం కష్టం. సేంద్రీయ ఉత్పత్తులను మంచి ధర వద్ద ఎలా విక్రయించాలో వీడియో ఇక్కడ ఉంది.

ഇക്കാലത്ത് ആളുകൾ ആരോഗ്യത്തിന് കൂടുതൽ ബോധമുള്ളവരാണ്, അതിനാൽ ജൈവ ഉല്പന്നങ്ങൾ കൂടുതൽ കൂടുതൽ സ്വീകരമായിരിക്കുന്നു, എന്നാൽ ഉൽപ്പന്നങ്ങൾ ന്യായവിലയിൽ ലഭ്യമല്ല. ഈ സാഹചര്യത്തിൽ, ജൈവകൃഷി ഉൽപ്പാദകർക്ക് അവരുടെ കോർപ്സിന്റെ മെച്ചപ്പെട്ട വില ലഭിക്കുന്നത് പ്രയാസമാണ്. ഒരു മികച്ച വിലയ്ക്ക് ജൈവ ഉല്പന്നങ്ങൾ വിൽക്കാൻ എങ്ങനെ സഹായിക്കുമെന്ന് വീഡിയോ ഇവിടെയുണ്ട്.

આજકાલ લોકો આરોગ્ય માટે વધુ સભાન છે, તેથી કાર્બનિક ઉત્પાદનો વધુને વધુ સ્વીકૃતિ મેળવવામાં આવે છે, પરંતુ ઉત્પાદનો હજી વાજબી કિંમતે ઉપલબ્ધ નથી. આ સ્થિતિમાં, કાર્બનિક કોર્પ્સ ઉત્પાદકોને તેમના કોર્પ્સની વધુ સારી કિંમત હોવાનું મુશ્કેલ છે. અહીં એવી વિડિઓ છે જે કાર્બનિક ઉત્પાદનોને વધુ સારી કિંમતે વેચવા માટે માર્ગદર્શન આપી શકે છે.
اڄڪلهه ماڻهو صحت جي حوالي سان وڌيڪ شعور آهن، تنهنڪري نامياتي شين کي وڌيڪ قبول ڪيو وڃي ٿو، پر مصنوعات اڃا به مناسب قيمت ۾ موجود نه آهن. هن صورتحال ۾، نامڪمل ڪور فصلن جي آبادگارن لاء ان جي ڪور جي بهتر قيمت ڪرڻ ڏکيو آهي. هتي اهو وڊيو آهي جنهن کي نامياتي شين جي پيداوار کي بهتر قيمت تي وڪڻڻ لاء سڌو رستو ڏيکاريندو آهي.

آج کل لوگ صحت سے زیادہ شعور ہیں، لہذا نامیاتی مصنوعات زیادہ سے زیادہ قبولیت حاصل کررہے ہیں، لیکن مصنوعات ابھی تک مناسب قیمت میں دستیاب نہیں ہیں. اس صورت حال میں، نامیاتی کور کے کسانوں کو ان کی کوروں کی بہتر قیمت حاصل کرنا مشکل ہے. یہ ویڈیو ہے جس میں نامیاتی مصنوعات کو بہتر قیمت پر کس طرح فروخت کرنے کے لئے رہنمائی کرسکتی ہے.


😊Share, Support, Subscribe, Like…
Please Subscribe the following Links:
Twitter: https://twitter.com/dumasiam
Facebook: https://www.facebook.com/dumasia
Google Plus: https://plus.google.com/u/0/+MGDumasia

Monday, July 30, 2018

Baatein Kheti Ki-Tarbuch ki Kheti se Lakho ki Kamai. Surat ke Kisan ne Kamaye Lakho.Farmer Earned Lakhs by Water Melon Farming.

#रिलायंस_फाउंडेशन की #तालीम पाकर, #सूरत (#तापी) जिला के अंदरूनी क्षेत्र #उमरपाडा गाँव के #नासीरपुर गाव के #किसान ने, कैसे #तरबूज की #खेती कमाए लाखो? #गुजरात_राज्य की #वनवासी #किसानो के #विकास के #प्रोजेक्ट्स तहत #आदिवासी विस्तारो में भी #खेती के अनेकविध प्रयोग होते है|
😊Share, Support, Subscribe, Like… 
Please Subscribe the following Links: 
Twitter: https://twitter.com/dumasiam 
Facebook: https://www.facebook.com/dumasia 
Google Plus: https://plus.google.com/u/0/+MGDumasia

Sunday, June 10, 2018

baatein kheti ki: muskmelon /kharbuja ki kheti aur shakkar teti se kamaye 70 dino me 21 lakh

तालुका डिसा के चंदा गालिया गांव के एक किसान खेताजी सोलंकी ने भी ऐसे ही एक कृषी मेले से प्रेरित होकर और कृषि तजज्ञों से मार्गदर्शन लेकर अपनी आलू की खेती छोड़ कर खरबूजे की खेती में नसीब आजमाया, और सिर्फ 70 दिनों में ही फसल उतार कर 21 लाख रूपये कमा लिए|